याद तो बहुत आओगे

आदरणीय ‘कार्टूनिस्ट ‘ प्राण जी को श्रद्धांजलि

याद तो बहुत आओगे
और भूलना बेहद मुश्किल
तुम मेरे यादों में बसे
तुम मेरे बचपन के साथी
तुम मेरे भीगी आँखों की मुस्कान
तुम मेरे सपनो को पंख लगाते
तुम मुझे आसमानों की सैर कराते
तुम मुझे हँसने पे मज़बूर कर देते
तुम मुझे आज भी बचपन की याद दिलाते थे
तुम मुझे दुनिया में बहुत भाते थे
तुम मुझे कितना गुदगुदाते थे
तुम मुझे यूँ तनहा कर दोगे सोचा न था
याद तो बहुत आओगे
और भूलना बेहद मुश्किल
राजेश’अरमान’

— with Dr.krishan Bir Singh.

Related Articles

तनहा

इश्क़ में हैं गुज़रे हम तेरे शहर से तनहा, महब्बत के उजड़े हुए घर से तनहा! हम वो हैं जो जीये जिंदगी भर से तनहा,…

दुर्योधन कब मिट पाया:भाग-34

जो तुम चिर प्रतीक्षित  सहचर  मैं ये ज्ञात कराता हूँ, हर्ष  तुम्हे  होगा  निश्चय  ही प्रियकर  बात बताता हूँ। तुमसे  पहले तेरे शत्रु का शीश विच्छेदन कर धड़ से, कटे मुंड अर्पित करता…

सोचा नहीं था

चले जाओगे तुम ये सोच नहीं था हो जाएगें तनहा हम ये सोचा नहीं था हंसते हंसते बितायी थी जिंदगी हमने गम में ढ़ल जाएगी…

Responses

New Report

Close