वज़ह…

दवा मैं दे दूँ तेरे इस गम का,
मेरे गर गम पता बता तो,
सितम मानता हूँ बहोत हुए हैं,
लेकिन मेरे सितम की खता बता तो,
जिद्द ही लिए अब भी बैठे रहोगे,
कभी तो मेरी सज़ा बता दो।

मैं पूजा मानूँ तेरी नज़र को,
मेरी नज़र से नज़र मिला तो,
मेरी भी है मिलने की आरज़ू,
कभी तो सुन ले कभी समझ तो,
तू चुप है और मैं हूँ तनहा,
इशारों में ही गुनाह बता दो।

तेरे लिए ही जीता हूँ यहां मैं,
मेरे इस वचन को गलत बात तो,
तेरी ख़ुशी और तेरे आंशुओं को,
मुझसे अलग हैं क्या ये बता तो,
मैं न समझूँ तेरे जतन को,
तो दोष मेरा सही बता दो।


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

1 Comment

  1. महेश गुप्ता जौनपुरी - September 11, 2019, 11:12 pm

    वाह बहुत सुंदर

Leave a Reply