शायरी की बस्ती

एक ख़्याल सा ज़ेहन में लाया जाये, शायरी की बस्ती को अलग से बसाया जाये..मख़ौल ना किसी की ख्वाईशो का उड़ाया जाये।

जहाँ हर दर्द कहा जाये, जहाँ हर दर्द सुना जाये।
बस हर दर्द को महसूस किया जाये।

ना खेलें कोई जज्बातों से,
ना खेलें कोई दिल के हालातों से..

हो कद्र जहाँ इंसानों की,
बात कह दे, तो अदब से सुना जाये।

मोहब्बत, इश्क़, प्यार को ऐसे पाला जाये,
आये तो कोई इस बस्ती में, फ़िर ना कोई ख़ाली जाये।

वो जो हो अंतर्मन में..
उसी को जीवन में लाया जाये,
टूट जाये गर ख़ुद भी, किसी का दिल ना दुखाया जाये।

एक ख़्याल सा ज़ेहन में लाया जाये, शायरी की बस्ती को अलग से बसाया जाये..📝Wahid🙏🙏

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

2 Comments

  1. राही अंजाना - August 23, 2019, 11:39 am

    वह

  2. महेश गुप्ता जौनपुरी - September 11, 2019, 11:57 am

    वाह बहुत सुंदर

Leave a Reply