शिक्षक हो आप

कोयले को हीरा बनाने वाले।
टूटे हुए तारे को चमकाने वाले।।
शिक्षक हो आप।
अंधेरे को रोशनी दिखाने वाले।।

कोरे कागज में रंग भरे।
रंगो को आकार दिए।।
आकारों से शब्द,शब्दों से धर्म बनाने वाले।
गुरु हो आप।
भगवान को भी शिष्य बनाने वाले।

सही, ग़लत में फ़र्क।
ज्ञानी,अज्ञानी,स्वर्ग और नर्क
शिक्षा की ताकत से परिचित कराने वाले।
जीवन को जीने का ढंग बताने वाले
आचार्य हो आप।
हमें शून्य से अनंत बनाने वाले।।

शिक्षक हो आप।
अज्ञानी से ज्ञानी बनाने वाले।

Related Articles

दुर्योधन कब मिट पाया:भाग-34

जो तुम चिर प्रतीक्षित  सहचर  मैं ये ज्ञात कराता हूँ, हर्ष  तुम्हे  होगा  निश्चय  ही प्रियकर  बात बताता हूँ। तुमसे  पहले तेरे शत्रु का शीश विच्छेदन कर धड़ से, कटे मुंड अर्पित करता…

देश दर्शन

शब्दों की सीमा लांघते शिशुपालो को, कृष्ण का सुदर्शन दिखलाने आया हूं,                                  मैं देश दिखाने आया हूं।। नारी को अबला समझने वालों को, मां…

शिक्षा ग्रहण करो, संत ज्ञानेश्वर भीमराव बनो

शिक्षा ग्रहण करो,संत ज्ञानेश्वर भीमराव बनों —————————————————- यदि मन में अभिलाषा है किसी विशेष कार्य, वस्तु ,लक्ष्य, पद प्रतिष्ठा के लिए और धरातल पर कोई…

Responses

New Report

Close