सुवह

सुवह सुवह
ये गुनगुनी सी ,
धूप रूप की ,

लगी है
सेंकने ये ,
शीत -थरथराए तन ।

उमग
जगाने लगी ,
मन में तपन प्यार की ,

कि रूप का अलाव
तापे , थरथराया ,
तन और मन ।

जानकी प्रसाद विवश
मेरे अपने मित्रो ,
मधुर महकते सवेरे की…हर पल
तन मन सरसाती ,हार्दिक मंगलकामनाएँ,
सपरिवारसहर्ष स्वीकार करें ……।
आपका ही ,
जानकी प्रसाद विवश

Related Articles

दुर्योधन कब मिट पाया:भाग-34

जो तुम चिर प्रतीक्षित  सहचर  मैं ये ज्ञात कराता हूँ, हर्ष  तुम्हे  होगा  निश्चय  ही प्रियकर  बात बताता हूँ। तुमसे  पहले तेरे शत्रु का शीश विच्छेदन कर धड़ से, कटे मुंड अर्पित करता…

माधवी-सवेरे

**माधवी – सवेरे”** ********* सुप्रभात माधवी-सवेरे का मन से अभिनन्दन , सुप्रभात, मंगलमय मित्रों का वन्दन । प्राची की लाली की टेर है सुहानी ,…

मित्रता

*प्रातः अभिवादन* सुवह सुवह जो मित्रता की ना महक आये । जिंदगी व्यर्थ में , दिन -रात सी चली जाये । चंद लमहे ही सही…

Responses

New Report

Close