हौंसला

जाएगी खुद से है जंग , तकदीर भी कुछ रूठी सी है

एक मुद्दत से है इंतज़ार हमे

अब तो उम्मीदें भी सब झूठी सी है

मगर है जज्बा बाकि दिल में कि

मेहनत रंग लाएगी मेरी

“सुथार” किस्मत न सही

मुश्किलें सीढियां बन मेरी ।।

-गुलेश सुथार


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

5 Comments

  1. Rohan Sharma - May 4, 2016, 10:42 pm

    Bahut khoob

  2. Panna - May 4, 2016, 11:46 pm

    मुश्किलें सीढियां बन मेरी …..bahut khoob

    • Gulesh - May 5, 2016, 9:47 pm

      धन्यवाद

    • Gulesh - May 5, 2016, 9:49 pm

      ये मुश्किले सीडियाँ बन जाएगी मेरी ।।

Leave a Reply