ग़ज़ल

मैं ! जटिल था ; आपने , कितना सरल-सा कर दिया ।

सोचता हूँ ; शुष्क हिमनद , को तरल-सा कर दिया ॥

खाली सीपों का भला , बाज़ार में क्या मोल होता ?
आप ने बन बूंद–स्वाति , बेशकीमती कर दिया ॥

ये खुला–सा आसमां , मुझको डराता ही रहा ।
आपने आधार बन के , शामियाना कर दिया ॥

मैं ! लहर के साथ रहकर , टूटता…टकराता रहता ।
आपने पतवार–सा बन , धार पे अब धर दिया ॥

हौंसला था और उड़ने को , खुली परवाज़ थी ।
नेह का इक नीड़ देकर , ‘यायावर’ को ‘घर’ दिया ॥

उम्र–भर यादों के जुगनू , मन के पिंजरे में लिए ।
तम के सायों से घिरा : मैं , रौशनी से भर दिया ॥

मुक्तकों—छंदों—कता’ओं , सा पड़ा बिखरा था : मैं ।
आपने दिलकश बहर दे , इक ग़ज़ल-सा कर दिया ॥
: अनुपम त्रिपाठी

**********__________***********

Related Articles

प्यार अंधा होता है (Love Is Blind) सत्य पर आधारित Full Story

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ Anu Mehta’s Dairy About me परिचय (Introduction) नमस्‍कार दोस्‍तो, मेरा नाम अनु मेहता है। मैं…

करार

किसी की जीत या किसी की हार का बाजार शोक नहीं मनाता। एक व्यापारी का पतन दूसरे व्यापारी के उन्नति का मार्ग प्रशस्त करता है।…

Responses

New Report

Close