Akanksha Malhotra, Author at Saavan's Posts

Tribute to Soldiers

Tribute to Soldiers

ये है तो हम है,हमारी जिंदगी है| क्या हमारी जिंदगी में ये है? »

दिल न न करते बहुत कुछ कह गया

दिल न न करते बहुत कुछ कह गया अब उस पर पर्दा दिमाग डाले तो कैसे »

अल्फ़ाज ए दिल हम लिखे कैसे?

अल्फ़ाज ए दिल हम लिखे कैसे? कलम को जुखाम है, कागज पीलिये में पीला हुआ जा रहा है! »

इस पल में

आज इस पल में सदियों का दर्द ठहर आया था जैसे उस पल में दो जुदा जिंदगियों की मौत हुई थी »

Ye mana dil jise dhunde

Ye mana dil jise dhunde Badi mushkil se milta hai Ye mana dil jise dhunde Badi mushkil se milta hai Magar jo thokare khaye Bina manzil se milta hai Chalo baithe ho kya bekar Kisnamat ke duhraye par Chalo baithe ho kya bekar Kisnamat ke duhraye par Wahi rasta hia jo Tumhare dil se milta hai Ye mana dil jise dhunde Badi mushkil se milta hai Magar jo thokare khaye Wahi manzil se milta hai Agar dushma... »

गाये जा गीत मिलन के

गाये जा गीत मिलन के तू अपनी लगन के सजन घर जाना हैं काहे छलके नैनों की गगरी, काहे बरसे जल तुझ बिन सूनी साजन की नगरी, परदेसिया घर चल प्यासे हैं दीप गगन के तेरे दर्शन के सजन घर जाना हैं लूट ना जाये जीवन का डेरा, मुझको हैं यह ग़म हम अकेले, ये जग लुटेरा, बिछुड़े ना मिल के हम बिगड़े नसीब ना बन के ये दिन जीवन के सजन घर जाना हैं डोले नयन प्रीतम के  द्वारे, मिलने की हैं धून बालम तेरा तुझको पुकारे, याद आने व... »

उठाये जा उन के सितम और जिये जा

उठाये जा उन के सितम और जिये जा युंही मुस्कुराये जा, आँसू पिये जा यही है मुहब्बत का दस्तूर, ऐ दिल वो ग़म दें तुझे, तू दुआएं दिये जा कभी वो नज़र जो समायी थी दिल में उसी एक नज़र का सहारा लिये जा सताये जमाना सितम ढाये दुनिया मगर तू किसी की तमन्ना किये जा उठाये जा उन के सितम और जिये जा »

यूं तेरी रहगुज़र से दीवानावार गुज़रे

यूं तेरी रह गुज़र से दीवाना-वार गुजरे कांधे पे अपने रख के अपना मज़ार गुजरे बैठे रहे रस्ते में , दिल का खंडहर सजा कर शायद इसी तरफ से एक दिन बहार गुजरे बहती हुई ये नदिया , घुलते हुए किनारे कोई तो पार उतरे , कोई तो पार गुजरे तूने भी हमको देखा , हमने भी तुझको देखा तू दिल ही हार गुज़रा हम जान हार गुजरे ———————————————... »

हमने जफ़ा न सीखी

हमने जफ़ा न सीखी उनको वफ़ा न आई पत्थर से दिल लगाया और दिल पे है चोट खाई अपने ही दिल के हाथों बरबाद हो गए हम किसके करें शिकायत अब किसकी दें दुहाई दुनिया बनाने वाले मैं तुझसे पूछता हूँ क्या प्यार का जहाँ में बदला है बेवफाई हमने जफ़ा न सीखी उनको वफ़ा न आई पत्थर से दिल लगाया और दिल पे है चोट खाई… »

क्या मैं तुम्हें चूम लूँ

“क्या मैं तुम्हें चूम लूँ?” डल झील. पूरे चाँद की रात. उसने डरते हुए पूछा। “हश्श्, नाव डूब जाएगी”, वो बोली “तो क्या करें?” वो मुस्कुराई और बोली “डूब जाने दो” और वो सहम गया »

Page 1 of 212