Sukhbir Singh Alagh, Author at Saavan's Posts

ਕਿਥੇ ਲੁਕ ਕੇ ਬੈਠੀ ਐ, ਮਹੋਬਤ ਤੂੰ

ਕਿਥੇ ਲੁਕ ਕੇ ਬੈਠੀ ਐ, ਮਹੋਬਤ ਤੂੰ। ਉਡੀਕਦਾ, ਦਿਨੇ ਅਤੇ ਰਾਤਾਂ ਨੂੰ। ਯਾਦ ਕਰ ਤੈਨੂੰ, ਖੋਹ ਜਾਉਂਦਾ ਖ਼ਵਾਬਾਂ ਨੂੰ। ਕਿੰਝ ਕਟਾ, ਇਹਨਾਂ ਦਿਨਾਂ ਦੇ ਹਿਸਾਬਾਂ ਨੂੰ। ਕਿਥੇ ਲੁੱਕ ਕੇ ਬੈਠੀ ਐ, ਮਹੋਬਤ ਤੂੰ। ਉਡੀਕਦਾ, ਦਿਨੇ ਅਤੇ ਰਾਤਾਂ ਨੂੰ। ਚਰੀ ਬਸੰਤ ਤੇਰੇ ਹੋਣ ਦਾ ਅਹਿਸਾਸ ਕਰਾਉਂਦੀ ਏ। ਦਿਨ ਰਾਤ ਕੀ ਦਸਾਂ ਸੁਪਨਿਆਂ ਚ ਵੀ ਤੁਹੀਂ ਆਉਂਦੀ ਏ। ਕਦ ਮਿਲਣ ਹੋਣਾ ਸਾਡਾ ਸੋਚਦਾ ਹਰ ਸਾਹਾਂ ਨੂੰ। ਵਕ਼ਤ ਨੀ ਗੁਜ਼ਰਦਾ ਹੁਣ ਉਡੀਕਦਾ ਤੇਰੀਆਂ ਰਾਹਾਂ ਨੂੰ। ਕਿਥੇ ਲੁੱਕ ਕੇ ਬੈਠੀ ਐ, ਮਹੋਬਤ ਤੂੰ। ਉਡੀਕਦਾ, ਦ... »

प्रकृति

प्रकृति का कत्ल करकर, जो जीने की आस रखते है। कुदरत को मारकर, जो धार्मिक लिबास रखते है। दिल में नफरत बढ़कर, मुँह पे मिठास रखते है। खून से हाथ रंगकर भी, ये भगवन में विश्वास रखते है। »

पाबंदी

सच बोलने पर, आज पाबंदी लग चुकी है। मर चुके ज़मीर, यहाँ खुलेआम बिक रहे हैं। डर के कारण, कोई आवाज़ नहीं उठाता यूँ तारीफों वाले बोल तो, बहुत लोग बोल रहे है। आज जो हालत हैं, ये किसी से छुपे नहीं खुलकर कुछ कह नहीं सकते, बस इसीलिए संभलकर लिख रहे है। »

ਸਮਾਂ ਬਦਲ ਰਿਹਾ ਹੈਂ

ਸਮਾਂ ਬਦਲ ਰਿਹਾ ਹੈਂ, ਲੋਕ ਬਦਲ ਰਹੇ ਨੇ। ਸੱਚ ਆਖਾ, ਸਭ ਦੇ ਸੌਂਕ ਬਦਲ ਰਹੇ ਨੇ। ਚੰਦ, ਸੂਰਜ ਤਾਂ ਓਹੀ ਜਾਪਦੇ ਬਸ ਮਨੁੱਖ ਹੀ ਬਦਲ ਗਏ ਨੇ। ਧਰਮ ਤਾਂ ਬਸ ਦਿਖਾਵਾ ਲਗਦਾ ਅੱਜ ਧਰਮੀ ਲੋਕ ਹੀ ਬਦਲ ਗਏ ਨੇ। »

वजूद

आंखों की यह पलकें झपका के तो दिखा सच बताऊ यह भी ना कर पाएगा। उस परमात्मा के कारण ही तेरा वजूद है उसके बिना, मिट्टी में मिल जाएगा। यह पैसा, यह शरीर सब नाशवान हैं कुछ भी साथ ना जाएगा। मरने के बाद भी, कुछ लोगो की जरूरत होगी नहीं तो “सुखबीर” शमशान कैसे जाएगा।   »

ख्वाब

कुछ ख्वाब जिन्दगी में हमेशा अधूरे रह जाते हैं। अरे दूसरों को क्या समझाऊ मैं, अपने ही समझ नहीं पाते हैं। अरे हमसे भी तो पूछ कर देखो, हम क्या चाहते हैं। “सुखबीर” जो अपने विचार प्रगट नहीं करते, वह जीते ही, मर जाते हैं। »

सपने

सपने देखा करो ओह यारों सपने साकार भी होते हैं। आज हम जिस मंजिल पर हैं कईओ के ख़्वाब ही होते हैं। बैठे बिठाए नहीं मिलती मंजिल मेहनत करने वाले ही कामयाब होते हैं। उनके सपने सिर्फ सपने ही रहेंगे जो सपनों के नाम पर सोते हैं। »

Dreams

A Human Can’t fulfill his all Dreams. In his Life, He always have some Dreams. He work hard for fulfill these wishes. And he has succeed to fulfill his dreams But In Every Success, His wishes have also increased. If, a human will become Rich person of the world. Yet, his wishes will not finish. This is the truthiness of human life. »

भगवान तेरा शुक्र है

एक बार मैं गरीबी से तंग आकर ऐसा सोचने लगा कुछ नहीं दिया भगवान तूने मुझे ऐसा कहकर उसे कोसने लगा फिर दूसरी और नजर गुमाई मैने दो व्यक्तियो को देखा एक के पास आंखे नहीं थी और के पास टाँगे नहीं थी वह दर दर जाकर अपनी भूख के लिए रोटी माँग रहे थे कुछ तो दे दो कोई ऐसा वें पुकार रहे थे फिर मैंने अपने आप को क़िस्मत वाला पाया फिर मैं उस ख़ुदा का शुक्र करने लगा और अपनी बोली के लिए माफ़ी माँगने लगा »

ਉਹ ਦਿਨ

ਉਹ ਦਿਨ ਵੀ ਬੀਤ ਗਏ ਮੇਰੇ ਰੱਬਾ ਇਹ ਦਿਨ ਵੀ ਬੀਤ ਜਾਣਗੇ ਜਦ ਸਮਾਂ ਲੰਘ ਗਿਆ ਇਹ ਦਿਨ ਬੜੇ  ਯਾਦ ਆਉਣਗੇ ਸਭ ਦਾ ਰਲ ਮਿਲ ਕੇ ਰਹਿਣਾ ਸੱਚ ਆਖਾਂ ਇਕੱਠੇ ਬਹਿਣਾ ਚਿਹਰੇ ਦੀਆ ਮੁਸਕਰਾਹਟਾਂ ਸਭ ਦੀਆ ਉਹ ਚਾਹਤਾਂ ਕੁੱਝ ਪਲ ਲਈ ਇਕੱਠੇ ਹੋਏ ਮੇਰੇ ਰੱਬਾ, ਫਿਰ ਸਭ ਵਿੱਛੜ ਜਾਣਗੇ ਜਦ ਸਮਾਂ ਲੰਘ ਗਿਆ ਇਹ ਦਿਨ ਬੜੇ ਯਾਦ ਆਉਣਗੇ ਸਭ ਦਾ ਫਿਰ ਵੱਖ ਵੱਖ ਹੋਣਾ ਸੱਚ ਆਖਾਂ ਇਕੱਲੇ ਹੀ ਹੋਣਾ ਆਪਸੀ ਪ੍ਰੇਮ ਪਿਆਰ ਦਾ ਖੋਹਣਾ ਬਾਹਰੋਂ ਦਿਖਾਵਾ ਹੀ ਹੋਣਾ ਕੁੱਝ ਚਿਰ ਲਈ ਮਿਲੀਆਂ ਖ਼ੁਸ਼ੀਆਂ ਦੀਆ ਘੜੀਆਂ ਫਿਰ ਦੁੱਖ ਆ ਜਾਣਗੇ ... »

Page 1 of 212