12043210_407676012767961_7207654308372887765_n

Fatta PAnna

0
Fatte Panne k jaise
haal ho gya h,
zinda to h
magar
kisi kaam k nhii

 

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

3 Comments

  1. Mohit Sharma - October 20, 2015, 6:39 pm

    Adhbhut!

  2. Panna - October 20, 2015, 8:53 pm

    इक अजीब सी जिंदगी है
    जिसे मैं जीता हूं
    इक पुराना कपडा है
    फ़टता जाता है
    ज्यों ज्यों सीता हूं

  3. nitu kandera - November 26, 2019, 11:17 am

    Wah

Leave a Reply