अलख जगा आकाश

‘मोती’ रोवत थान पर, माई गयी आकाश !

किसकी माई कब गयी, वह तो तेरे पास !!

 

अलख जगा आकाश में, सुना जो भागत जाय !

बाकी सब नाचत फिरें, जग माया के साथ !!

 

काँव-काँव कौआ करे, उसका दिया सन्देश  !

एक रात बस ठहर कर, निकल दूसरो देश !!

 

निज स्वरुप को त्याग कर, नदिया बनी समुंद्र  !

जीव मिला पर्ब्रम्हा से, धरा ब्रह्मा का रूप !!

 

मोती न आवत दिखा, न जाते कोई देख !

जाते हल्ला हो उठा, ना जाना कोई भेद !!

 

अचरज  देखा आज मैं, चेतन जड़ बन जाय !

जड़ चेतन का स्वांग भर, रोवे हँसे ठठाय !!

 

भांग-धतूरा खाय के, ‘मोती’ चढ़ा आकाश !

शून्य की घंटी ज्यों बजी, उलटा गिरा पाताल !!

 

धन खातिर योगी बने, ज्ञान बघारे रोज !

माया-विषया नित तपें, वे क्या जानें योग !!

 

जड़-चेतन सब में वही, सब में उसका बास !

ग्रह तारे पिण्डी सकल, सब में वही प्रकाश !!

 

रेत की गिनती हो सके, गिनती सिर के बाल !

उसकी गिनती को करे, जिसका आदि न काल !!

 

तेरे डिग लेटा पड़ा, तेरा प्रियतम मीत !

कब तक तू सोयी पड़ी, उठ मोती कर प्रीति !!

 

कैसा गुरु, किसका गुरु, सब माया के दास !

मेरा गुरु बस एक है, जनम मरण के साथ !!

 

हाड़ माँस को जोड़ कर, चर्बी दिया चढ़ाय !

सवा टका के भवन में, उसको दिया बिठाय !!

 

धर्म अधर्म की बात पर, रोज़ बढ़े तकरार !

‘मोती’ सब विरथा लड़ें, बिन जाने सरकार !!

 

फूल खिलें इक दिन रहें, रात होय मुरझायँ !

सब मानव की गति यही, फिर कांहे इतराय !!

 

प्रेम बँधा संसार है, प्रेम ही जग में सार !

प्रेम बिना कैसे मिले, जग का तारनहार !!

 

माया चोंगा पहन कर, ‘मोती’ गया बजार !

नकली को असली समझ, रोज़ करे व्यापार !!

 

पण्डित, मुल्ला, पादरी, घर-घर आग लगाय !

नफरत की आँधी चला, दीपक दिया बुझाय !!

 

फूला फूल पलाश का, आग लगा चहुँओर  !

मेरा घर धूं-धूं जला, भीतर हुआ अंजोर !!

 

उजड़ा घर हँसा उड़ा, बसा दूसरो गेह !

योनि योनि भटकत फिरे, भिन्न भिन्न धरे देह !!

 

एक दीप जैसे जला, लाखों दीप जलें !

धरती आलोकित हुई, तम की घटा छंटे !!

 

भीतर झाँका वह दिखा, बाहर घोर अन्हार !

बाहर भटकत मैं फिरा, मिला न मेरा यार  !!

 

ढूढत ढूढत मैं थका, “काल” मिले जब होय !

मैं “अकाल” निशचित रहा, काल करे क्या होय !!

 

तेल चुका बाती बुझी, सुगना उड़ा विदेश !

कर्म साथ लेता गया, कुछ भी बचा न शेष !!

 

प्रियतम तेरे रूप पर, मोहित जग संसार !

अपना मेरा कुछ नहीं, कैसे पाऊँ पार !!

 

भीतर जलता आग है, बाहर धधके आग !

ऐसी अँधेरी गुफा, ना दिन दिखे प्रकाश !!

Related Articles

प्यार अंधा होता है (Love Is Blind) सत्य पर आधारित Full Story

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ Anu Mehta’s Dairy About me परिचय (Introduction) नमस्‍कार दोस्‍तो, मेरा नाम अनु मेहता है। मैं…

जंगे आज़ादी (आजादी की ७०वी वर्षगाँठ के शुभ अवसर पर राष्ट्र को समर्पित)

वर्ष सैकड़ों बीत गये, आज़ादी हमको मिली नहीं लाखों शहीद कुर्बान हुए, आज़ादी हमको मिली नहीं भारत जननी स्वर्ण भूमि पर, बर्बर अत्याचार हुये माता…

Responses

New Report

Close