अहिंसक हो – 3

अहिंसक हो

मेरे चित्‌ ,

अहिंसक हो 

जीव हत्या ,

क्भी नहीं 

वनस्पति अपमान ,

क्भी नहीं 

Related Articles

समीकरण

कुछ समीकरण पारस्परिक खींचतान झूंठी प्रतिस्पर्धा ईर्ष्या ,द्वेष अहंकार सृजन और विसर्जन व्यक्तित्वों का टकराव झूठी अफवाहें सूनी निगाहें आत्मिक वेदना कम होती चेतना शीत…

Responses

New Report

Close