इश्क-ए-खुदाई – 2

इश्कखुदाई

भी कैसा सौदाई है

जग की बेजड़सोचें

इसने छोडा़ई हैं

Related Articles

Responses

New Report

Close