इश्क-ए-खुदाई – 3

इश्कखुदाई

भी कैसा सौदाई है

लाजशर्महयातेह्ज़ीब

इसने भुलाई है

Related Articles

तेरा सजदा – 116

तेरा सजदा – 116           कोई लाज-शर्म-हया-तेह्ज़ीब भूला तुझमें जान बसाई है कोई लाज-शर्म-हया-तेह्ज़ीब भूला दुनिया में जान बसाई है                                                                                                           ………

Responses

New Report

Close