एक दोहा एक कुंडलिया

” दोहा और कुंडलिया ”
२१. १२२. २१२. ११. ११. ११२ १२
देखि मुखौटा चूतिया | फंसि मति जइयो जाय ||
२२ २२ २१ २ १११. १११ ११. १२
सीधे सादे वेश में | सठहि सहज मिलि जाय ||
१११ १११ ११ २१ २ ११२ २१ १२११
सठहि सहज मिलि जाय के सबके नाच नचावत |
११२. २. ११ २१ १. १ १११. २१ २. २११
फंसिहे जौ एक बार कि निकसत पार ना पावत ||
११. ११२१. ११२१. १२२ १२२. २११
कह मतिहीन कविराय फिरौती पईसा मांगत |
२१. १२१. ११. २१. २१ १२२. २११
जेहि सज्जन अति जान तेही मर्यादा लांघत ||
उपाध्याय…

Related Articles

मुखौटा

नक़ली चैहरो के नक़ली शहर में घूम रहे लिए नक़ली मुखौटा, मन में राम बगल में छुरी ,राम राम की माला जपता मुखौटा। दुनिया की…

Rita arora jai hind

एक प्रयास मापनी 211 211 211 22 रे मन बावरा हुआ जाय है बादलों में घटा घिर आयी रे। श्याम बंसी की तान सुना दे…

Responses

New Report

Close