कविता

……..दर्शन…….
यह अति नूतन दर्शन है
पावन यह परिवर्तन है |
सर्वोत्तम ज्ञान का दर्पण
है दिव्य दान यह धन है ||
इसका उत्थान इसी में
नित नव्य कला साधन है |
है ज्ञान तभी जीवन है
यह मुक्ति हेतु बंधन है ||
उपाध्यायय…

Related Articles

Responses

New Report

Close