कौन जाने

बारहा अब ये हक़ीक़त कौन जाने,
आँख भी करती बग़ावत कौन जाने।

मैं फ़िदा होता रुख़सार पे बस,
इश्क़ है या है इबादत कौन जाने।

जान देना था लुटा आये सनम पर,
इसके भी होते मुहूरत कौन जाने।

मौत की मेरी मुझे परवाह कब है,
जान मेरी हो सलामत कौन जाने।

गेसुओं की छाँव में होगी बसर फ़िर,
ज़ुल्फ़ उनके दें इजाज़त कौन जाने।

रात को उठ बैठ जाता हूँ अचानक,
नींद में भी अब शरारत कौन जाने।

जिस क़दर दुश्वारियाँ हैं आज कल ये,
छोड़ दे काफ़िर मुहब्बत कौन जाने।

#काफ़िर (11/06/2016)

Related Articles

प्यार अंधा होता है (Love Is Blind) सत्य पर आधारित Full Story

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ Anu Mehta’s Dairy About me परिचय (Introduction) नमस्‍कार दोस्‍तो, मेरा नाम अनु मेहता है। मैं…

जागो जनता जनार्दन

http://pravaaah.blogspot.in/2016/11/blog-post_75.htmlसमाज आज एक छल तंत्र की ओर बढ़ रहा है प्रजातंत्र खत्म हुआ। अराजकता बढ़ रही, बुद्धिजीवी मौन है या चर्चारत हे कृष्ण फिर से…

Responses

  1. wahhh saahab kya khoobsurt matlaa liya hai laajwab

    बारहा अब ये हक़ीक़त कौन जाने,
    आँख भी करती बग़ावत कौन जाने।

    kya kahne khoobsurt aankh bhi karti hai bagaawat koun jaane

    रात को उठ बैठ जाता हूँ अचानक,
    नींद में भी अब शरारत कौन जाने। lajwab again behd khoobsurt bhai

    1. दिली शुक्रिया जनाब पूरब जी शुक्रगुजार हूँ आपकी इसकी मोहब्बत का

New Report

Close