गीत

“गीत”
::::::::::::
हे!री सखी कैसे भेजूं ,
प्रिय को प्रणय निवेदन।
दूर देश विदेश भय हैं
वो मन का मेरे प्रिय साजन।
हे! री सखी कैसे करू मै,
स – श्रृंगार मन यौवन।
हे!री सखी कैसे भेजूं ,
प्रिय को प्रणय निवेदन।
सावन आ कर बहक गया,
दामनि लगे है मोहे डरावन।
हे! री सखी कैसे पाऊँ मै,
साजन का वो प्रिय आलिंगन।
हे!री सखी कैसे भेजूं ,
प्रिय को प्रणय निवेदन।
जब – जब देखूं मैं दर्पण
होता मन में है स्पंदन।
हे! री सखी कैसे कहूं मैं
भौरों का है गीत मनभावन।
हे!री सखी कैसे भेजूं ,
प्रिय को प्रणय निवेदन।
पतझड़ आकर जिया जलाएं
सूना हो गया है उप वन।
हे ! री सखी कैसे बतलाऊं
प्रीत मिलन बिन सूना जीवन।
हे!री सखी कैसे भेजूं ,
प्रिय को प्रणय निवेदन।

::::::::::::::::::::::

योगेंद्र कुमार निषाद ,
घरघोड़ा ,छत्तीसगढ़,४९६१११
मो.७०००५७११२५

Related Articles

छत्तीसगढ़ के घायल मन की पीड़ा कहने आया हूँ।

मैं किसी सियासत का समर्थन नहीं करता हूँ। भ्रष्टाचार के सम्मुख मैं समर्पण नहीं करता हूँ॥ सरकारी बंदिस को मैं स्वीकार नहीं करता हूँ। राजनीति…

Responses

New Report

Close