गुस्ताखी माफ़ !

गुस्ताखी माफ़ !

बच्चों के प्रश्न भी अज़ीब होते हैं !
मगर ; सच्चाई के कितने क़रीब होते हैं !!
कल ही आधुनिक–भारत का सच पढ़ते हुए ,
प्रत्यक्ष – से , परोक्ष – रूप में लड़ते हुए ,
मेरे बेटे ने मुझे पूछा ——————-
‘‘ पापा ! कानून की आंखों पर पट्टी क्यों बंधी होती है ?
क्या, न्याय—-प्रक्रिया वास्तव में अंधी होती है ?? ’’

‘‘ हे, ईश्वर ! यह प्रश्न था या पहाड़ ?
सभी तो समान हैं —————
बिहार का बेऊर जेल हो…या दिल्ली का तिहाड़. ’’

मैं , ………………… निरूत्तर था,
बेटे का प्रश्न — स्वयं में उत्तर था.

उसकी जिज्ञासा जारी थी —- मेरे अनुभव पर भारी थी.

वह बोला -‘‘ शायद ! कानून ; धृतराष्ट्र की तरह जन्मजात् अंधा होगा
या फिर , भीष्म—पितामह-सा , संवैधानिक—- सत्ता से बंधा होगा
यदि लोग जान लेंगे कि , कानून : वास्तव में अंधा है ,
: अंधाधुन्ध फैसले इसीलिए करता है
तो, उनका विष्वास उठ जायेगा………………
अदालत तक , न्याय पाने , कौन जायेगा ? ’’

‘‘ लोगों में यह भ्रम बना रहे कि , कानून अपना काम कर रहा है ……………
न्याय : केवल नज़ीर की बात नहीं , वातावरण—-सा चारों ओर बिखर रहा है
न्यायमूर्ति ! आंखों पर पट्टी बांधकर , सबूतों के आधार पर सच पहचानकर ,
उसी की तरफ फै़सला सुनाता है—‘तराजू का जो पलड़ा’ भारी कर दिया जाता है ’’
‘‘ तराजू : इसीलिए तो खाली झूलती है, पापा !
कि, जो चाहे ——— अपनी ओर झुका ले. ’’

मैं, इस नये दृष्टिकोण से हैरान था,
बाल-सुलभ अंदाज़ से परेशान था
उसे कैसे समझाता —- ‘‘ हे, आज़ाद भारत के निष्कलंक आईने !
तू कब बूझेगा , प्रतीकों के माईने ? ’’

– ‘‘ कानून की आंखों पर बंधी पट्टी , भेदभाव–रागरंजिश से परे होती है
प्रेमचंद का ‘पंच—परमेश्वर ’, ‘ अलगू ’ हो या ‘ जुम्मन ’ ,
खाला—-सी—-जनता , न्याय पर भरोसा धरे होती है

—— ‘‘ बेटे ! यह तुम्हारा नहीं, पीढ़ी का दोष है
मुझे पता है, तू ! पूर्णतः निर्दोष है. ’’

—‘‘मीडिया के मार्फत अपराध का महिमामंडन् ,
व्यवस्था का हृास———–मूल्यों का विखंडन् ,
इसी तरह का सामाजिक ढांचा तैयार करता है
कि , आदमी ! अपनी परछाई से भी डरता है . ’’

———‘‘ न्यायाधीश भी इन्सान् होता है , ‘ उसका भी ईमान होता है’ !
समाज़ : समय का आईना होता है , समय : सत्य को सूत्र में पिरोता है. ’’
——‘‘ तू ! आस्था का चिराग जलाये रखना , ताउम्र सच की राह पे चलना
प्राकृतिक-न्याय सदैव निष्पक्ष होता है, सत्य : सुगंध की तरह प्रत्यक्ष होता है”

क्योंकि, झूठ के पाँव नहीं होते !
परछाईयों के गाँव नहीं होते !!

: अनुपम त्रिपाठी

….000….000….000….

Related Articles

प्यार अंधा होता है (Love Is Blind) सत्य पर आधारित Full Story

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ Anu Mehta’s Dairy About me परिचय (Introduction) नमस्‍कार दोस्‍तो, मेरा नाम अनु मेहता है। मैं…

अपहरण

” अपहरण “हाथों में तख्ती, गाड़ी पर लाउडस्पीकर, हट्टे -कट्टे, मोटे -पतले, नर- नारी, नौजवानों- बूढ़े लोगों  की भीड़, कुछ पैदल और कुछ दो पहिया वाहन…

Responses

New Report

Close