चार दीवारे और इक छत

0

चार दीवारे और इक छत, इत्ता सा था घर मेरा

चार दीवारे और इक छत, इत्ता सा था घर मेरा
भूखी जमीन आज उसे भी निगल गयी

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Hi, This is Mukul!

1 Comment

  1. Rohan Sharma - January 14, 2016, 12:08 pm

    nice one mukul!

Leave a Reply