जब से से देखा है उन्हें

जब से से देखा है उन्हें
देखते रह गए हम,
उनकी सूरत को नहीं
उनके व्यवहार हो हम।
वो सुलझी हुई बोली,
हँसी का फुहार न्यारा सा
शुद्धता आचरण की
मिजाज प्यारा सा।

Related Articles

Happy Birthday to You Mam

सब की ज़िन्दगी मे कोई ना कोई इंसान ऐसा होता है जो सब से खास, सब से प्यारा होता है। चाहे वो मम्मी या पापा,…

Responses

  1. वाह, बहुत ही सुन्दर कविता है। लेखनी से स्नेह और सम्मान छलक रहा है। लेखनी के निखार का परिचायक।

New Report

Close