धन

धन का होना बहुत जरूरी है, धन से ही जिंदगी की भौतिक जरूरतें पूरी होती हैं। वर्तमान दौर में धन पर सम्मान टिका है, धनवान…

गुड़

गुड़ पिघल गया था मीठा सा जल हुआ, तुमने हमारे हेतु जब की थी जरा दुआ। गुड़ थे हम पिघल गए थे उस प्यार की…

कविता

कविता सजी चारों तरफ, श्रृंगार करके हर तरह का। दर्द भी है प्रेम भी है, चाह भी है आह भी। जिंदगी कविता है कविता ही…

श्राद्ध

श्रद्धा का श्राद्ध करते हैं पितरों को याद जिन्होंने जन्म दिया, पालन पोषण किया, जो जीवन भर हमारे लिए जूझे उन्हें करते हैं याद, इसीलिए…

मन

नफरतों ने दिशा बदल डाली मन घिरा जाल में स्वयं अपने बांटी नफरत तो पाई नफरत थी फिर भी मन में रही है कुछ गफलत।…

New Report

Close