ज़ख्म

दर्द देना गर फितरत है तेरी ,

अपनीयत का तुम गला दबा दो 

चाहें जितने भी फिर ज़ख्म दिला दो,

अपनीयत के दर्द से मुझे बचा दो

                                                      ……  यूई

Related Articles

Responses

New Report

Close