जिंदगी को जैसे पर लग गये

जिंदगी को जैसे पर लग गये

कभी गुजरती थी जिंदगी
धीरे धीरे, कभी साइकिल पे, कभी पैदल
इक बचपन क्या गुजरा
जिंदगी को जैसे पर लग गये


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Panna.....Ek Khayal...Pathraya Sa!

6 Comments

  1. SACHIN SANSANWAL - April 3, 2016, 4:39 am

    nice

  2. Tej Pratap Narayan - April 5, 2016, 2:01 pm

    VERY NICE

  3. UE Vijay Sharma - April 5, 2016, 2:53 pm

    Beautiful Panna Jii ….

Leave a Reply