झुकना ही तो नम्रता है

झुकना ही तो नम्रता है

अकड़ा वो तो मुर्दा है

                      …… यूई

Related Articles

नम्रता

नम्रता ही तो है आभूषण हर्षित करता है सबका मन जीवन में कोई अवरोध नहीं प्रगति भी रुकता है कहीं कर्महीन का सहारा भाग्य उत्साही…

New Report

Close