तुम और मैं….

उस दिन मैंने तुमको,
पहली बार ही देखा था,
जब तुमने मेरे ऊपर,
गलती से गुलाब फेंका था,
न जाने क्यों उसके,
कांटे मुझे न चुभे,
लगा तुमने दिल का मरहम,
सरेआम फेंका था,
बोली मैंने इज़हार किया,
अब तुम्हारी बारी है,
गुलाब देकर मैंने कहा,
फिर ये जान तुम्हारी है….
– उमेश पंसारी

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

4 Comments

  1. ashmita - August 22, 2019, 2:52 pm

    Nice one umesh ji

  2. राही अंजाना - August 23, 2019, 11:40 am

    वाह

Leave a Reply