तेरे बिना जिंदगी बस इतनी सी है।

तेरे बिना जिंदगी बस इतनी सी है।
बग़ैर रूह के इक ज़िस्म हो जैसे।।
@@@@RK@@@@

Related Articles

ग़ज़ल

२१२२ १२१२ २२ अपने ही क़ौल से मुकर जाऊँ । इससे बेहतर है खुद में (खुद ही) मर जाऊँ ।। तू मेरी रूह की हिफ़ाजत…

Responses

New Report

Close