दमन चक्र में घिरे हुए नर की व्यथा कौन कहे

दमन चक्र में घिरे हुए नर की व्यथा कौन कहे
शोषित होती नारी के, आसूओं में कौन बहे
दिखती है अंधी दुनिया मुझे अपने चारो ओर
ऐसी परायी दुनिया में बोलो कौन रहे ??

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

........................................

6 Comments

  1. Panna - December 29, 2015, 8:05 pm

    nice

  2. Akanksha Malhotra - December 31, 2015, 1:38 am

    nice line! 🙂

  3. Ajay Nawal - December 31, 2015, 9:45 am

    Thanks Sagar ji

  4. महेश गुप्ता जौनपुरी - September 9, 2019, 7:15 pm

    वाह बहुत सुंदर

Leave a Reply