दो मुक्तक

1- आज दिल में बड़ी हलचल सी मचती रही,

बाद बहुत गौर करने के मालुम हुआ कि-

एक आंसू जो पिया था कल हमने ,

उसने तबाही मचा रखी थी.

2-जबसे नज़र अंदाज़ किया उनको,

उनकी नजरो का अंदाज़ बदलते देखा हमने,

जो रुखसार गुस्से से लाल हो जाया करते थे,

उन्ही रुखसारो को अब शर्म से लाल होते देखा हमने.

 


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

मुक्तक

मुक्तक

मुक्तक

मुक्तक

3 Comments

  1. anupriya sharma - July 9, 2016, 11:39 am

    Nice

Leave a Reply