“ धूप की नदी “

लड़की ; पड़ी है : पसरी
निगाहों के मरुस्थल में
………….धूप की नदी सी ।

लड़की का निर्वस्त्र शरीर
सोने—सा चमकता है
लोलुप निगाहों में
शूल—सा चुभता है ।

मगर , वह बे—खबर है
पसरी
पड़ी
है
धूप की नदी सी ………
निगाहों के मरुस्थल में ।
देह की रण—भूमि पर
विचारों के कुत्सित—शस्त्र
मर्यादा का ख़ून कर
गूँथ गए भूलकर
लड़की का बे—बस पिता
हाथ जोड़े तक रहा
: एक और जलती चिता ।

लड़की ; तनिक भी नहीं हिली ……शायद ! वह जानती है : अपनी नियति ।

उसे ; पता है ———–
निगाहों का मरुस्थल , उसका जीवन होगा !
और धूप की नदी : उसकी अभिन्न सखी !!

उसे ; पता है ———–
फैला
है
जिस्म
धूप बनकर धरती पर ।
कल ;
जब होंगे ….. उसकी देह पर खेत
हटाई जाएगी …… आसपास की रेत
वक्त : एक सवाल बनकर सम्मुख खड़ा होगा
“ शीशे की दीवार पर “ ; पारे—सा जड़ा होगा

निगाह : नदी बनकर बहेगी
नदी : समर्पण—कथा कहेगी
उसका हौंसला — उसकी उड़ान होगा
मुट्ठी में बिंधा ——– आसमान होगा
इतिहास के पृष्ठों से उभरकर ……….
भविष्य की जमीन पर बिखरकर……….
……………….. नई इबारत लिखी जाएगी
यही नदी : समंदर की पहचान कहलाएगी

जिस्म
का
जंगल
सुलगेगा
: बनेगा कुन्दन
धूप के मरुस्थल में ……………
………………. हवस दम तोड़ देगी

इसीलिए तो ; ——-
पसरी पड़ी है : लड़की
: निगाहों के मरुस्थल में
: धूप की नदी सरीखी ।
: अनुपम त्रिपाठी


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

5 Comments

  1. sagar a sharma - December 30, 2015, 11:44 am

    bahut ummda… srahniye..

    • Anupam Tripathi - May 13, 2016, 10:52 pm

      धन्यवाद सागरजी

  2. Rohan Sharma - December 30, 2015, 9:58 pm

    awesome piece of poetry 🙂

    • Anupam Tripathi - May 13, 2016, 10:51 pm

      आभार मित्र

  3. महेश गुप्ता जौनपुरी - September 12, 2019, 11:13 pm

    वाह बहुत सुंदर रचना

Leave a Reply