नवदीप

शीशे का एक महल तुम्हारा,
शीशे का एक महल हमारा.

फिर पत्थर क्यों हाथों में
आओ मिल बैठें , ना घात करें ।

प्रीत भरें बीतें लम्हों को,
नवदीप जलाकर याद करें

– पूनम अग्रवाल

Related Articles

ऐसा क्यों है

चारो दिशाओं में छाया इतना कुहा सा क्यों है यहाँ जर्रे जर्रे में बिखरा इतना धुआँ सा क्यों है शहर के चप्पे चप्पे पर तैनात…

खता

लम्हों ने खता की है सजा हमको मिल रही है ये मौसम की बेरुखी है खिजां हमको मिल रही है सोचा था लौटकर फिर ना…

हम उन लम्हों

हम उन लम्हों की याद को जेहन में यु संजोये बैठे है रहकर भी दूर जैसे आँखों में बसता है कोई उन लम्हों की सांसें…

Responses

New Report

Close