नज़र

नज़र ऐ खूब है खूब नज़राना
देखूं तुझे या जमाना

मनो न मनो मर्जी तेरी
देदी मेने अर्जी मेरी

-विनीता श्रीवास्तव(नीरजा नीर)-

Related Articles

नज़र ..

प्रेम  होता  दिलों  से  है फंसती  नज़र , एक तुम्हारी नज़र , एक हमारी नज़र, जब तुम आई नज़र , जब मैं आया नज़र, फिर…

Responses

New Report

Close