परछाइयां

रोकर कोई न जंग जीता है न जीतेगा कभी ,
वक्त है यह वक्त से पहले न बीतेगा कभी l
हाथों में काले से बस कुछ दाग ही रह जायेंगे,
हाथों से परछाइयों को जो घसीटेगा कभी ll

-#विकास_भान्ती

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Hi, I am Vikas Bhanti. A Civil Engineer by proffession by poet by heart. Kindly like my page on FB and subscribe my YouTube channel for updates

2 Comments

  1. Panna - April 28, 2016, 5:45 pm

    bahut khoob!

  2. महेश गुप्ता जौनपुरी - September 8, 2019, 5:05 pm

    वाह बहुत सुंदर

Leave a Reply