पापा

0

अगर देती जन्म “‘” माँ””
चलना; सभलना सिखाते है पापा।
. …………. जितना भी बच्चे फरमाइस करते;
पुरा करते है पापा।
अपना सारा अरमान कुचलकर; बच्चे के अरमान को पूरा करते पापा।।
अपने बदन पर कपड़ा भले ना हो;_
. बच्चे के बदन पर कपड़ा पुरा करते पापा —
अपने आज तक बंद आसमान मे सोए नही
…………….. बच्चे के घर पंखा लगाते पापा।।
घर से दुर रहकर भी अपने कमी का एहसास नही नही होने देते इसी को कहते हे पापा।
अपना सारा अरमान कुचलकर बच्चे के अरमान को पुरा करते पापा ।।
please forgive me father did you not got.

jyoti
mob_9123155481

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

शिक्षक

ज्ञान

क्यो कुछते हो परतीभा के परतीभाओ को ।

क्यो कुछते हो परतीभा के परतीभाओ को ।

अगर मै कुड़ा कागज होता,

अगर मै कुड़ा कागज होता,

7 Comments

  1. Neha - June 17, 2018, 9:48 pm

    Very njce

  2. Mithilesh Rai - June 17, 2018, 10:45 pm

    Very good

  3. देव कुमार - June 18, 2018, 1:40 am

    Asm post

  4. देव कुमार - June 18, 2018, 2:27 am

    Swagatam

Leave a Reply