बर्फ होते रिश्ते

पगला सा ये मन मेरा,
हो जाने को बैठा सिर्फ तेरा,
तुझमें ही रम जाना चाहे,
डगर कठिन हो कितनी भी चाहे।
तुझ संग ये चाहे उङना,
दुनिया में बेझिझक फिरना,
खुशियों से झोली भरना चाहे,
बाँहों में तेरी डाले बाँहें ।।

आँखें तुझ बिन खाली सी,
सपनों की एक जाली सी
इनमें,मानों मोतियाबिंद उतर आया हो,
रोशनी में भी गहरा अंधियारा छाया हो।
रंगीन सपने सम्भाले हुए,
खुशफ़हमियाँ कुछ पाले हुए,
हठ पर ये उतर आईं हैं,
बंद होने को तैयार नही हैं।।

गरमाहट दो दिलों की मिलकर,
हर बर्फीले चट्टान को पिघलाकर,
इन आँखों में सतरंगी सपने सजायेंगे,
अपने अरमानों का जहां बसायेंगे।
ऐसे कुछ अरमान सजे थे,
कुछ ऐसे ख्वाहिश जागे थे,
धुंधली सी पर थी तस्वीर,
दग़ा दे गयी मेरी तकदीर ।।

अब किस जहां को तलाशती हैं आँखें !
किस तपिश की चाह करता है दिल ?
बेरहम सी दुनिया में ,
यूँ अहसासों की भूलभुलैय्या में।
अब तो इंतज़ार का दामन छोड़,
खुशफहमी के धागे तोड़ ,
कि दिन हुए कुछ पूरे से,
घिरे हुए स्याह अंधियारे से।।

अधूरी सी है ज़िन्दगी,
अब तो वक्त है रुख़सती की,
पथराती सी नज़रें,
थमतीं सी धङकनें,
चरमराता यकीं,
सर्द होता बदन,
हसरतों और अरमानों की सलवटें
और उनपर बर्फ होते से रिश्ते !!

-मधुमिता

Related Articles

प्यार अंधा होता है (Love Is Blind) सत्य पर आधारित Full Story

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ Anu Mehta’s Dairy About me परिचय (Introduction) नमस्‍कार दोस्‍तो, मेरा नाम अनु मेहता है। मैं…

Responses

New Report

Close