बोल ; मेरी मछली !

जब अंधे;आपस में मिल बैठकर ,
: संध्या बांचते हैं
कुत्ते : पत्तल चाटते हैं………..

यही तो है ; हमारी व्यवस्था !
कि; अंतिम पंक्ति का अंतिम व्यक्ति
डरा–सहमा जड रह जाता है
उसे धकिया कर ; हर बार
एक नया पात्र सामने आता है .

गुलाम मानसिकता ———-
नपुंसक व्यवस्था के सम्मुख
दोहरी हो के दण्डवत होती है
कतार स्तब्ध है ; याचकों की
———————–सहमी है
: खाई और चौडी होती है.

व्यवस्था : हमेंशा जूते में दाल बांटती है
नेतृत्व की ‘ चरणदास ‘ पीढ़ी छांटती है.

आजादी के रथ को ———-
मौकापरस्त कुत्ते हांक रहे हैं
थके घोडे : अस्तबलों में
——————– हांफ रहे हैं.

और ; हम है कि ! सपनों के भारत की
लोकतंत्र से संवैधानिक दूरी नाप रहे हैं. ……………………

” वे “, दांत और दुम के
सामूहिक प्रयोग में पारंगत हैं
: कुत्ते हैं ;
“हम”;अधिकारों से अनभिज्ञ
अपने–आप से हत् हैं
: अंधे हैं.

तभी तो कहा गया है ; कि, —
जब अंधे मिल—बैठ कर
संध्या बांचते हैं
: कुत्ते पत्तल चाटते हैं ……

……कुत्ते ही पत्तल चाटते हैं .

***********——–*********


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

3 Comments

  1. Abhishek kumar - January 4, 2020, 11:03 pm

    Nice

Leave a Reply