भोजपुरी ग़ज़ल -का कसूर बा

भोजपुरी गजल – का कसूर बा |
आँख से बहल आँसू तू पानी कहा सब मंजूर बा |
बहल काहे ई पानी बतावा हमार का कसूर बा |
कईल तोहसे प्यार का ई गुनाह हो गईल बोला |
तोड़ दिहलु दिल हमार धंसल करेजा नासूर बा |
सोचली सजाइब प्यार के दुनिया तोहरे संग हम |
तोड़ के सपना चल दिहलु कईल दगा जरूर बा |
गड़े ना कबों काँटा पाँव दिल बिछवली आपन |
कुचल दिहलु मोर करेजा तोहरे इश्क के शुरुर बा |
मरम दिल बुझतु करम करतू ना तू कबों अइसन |
साँच आशिक हई छोडब ना साथ दिल मजबूर बा |
तू हमार जान हमार परान सब कुछ तुही तू बाड़ू |
तोहरे प्यार के हमरो ये जान सबसे गुरूर बा |
अँखिया मे समा के दिल मे काहे उतर गइलू |
कइसे करी हम प्यार हमरो कुछउ ना सहुर बा |

श्याम कुँवर भारती (राजभर)
कवि /लेखक /गीतकार /समाजसेवी
बोकारो झारखंड मोब -9955509286


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

10 Comments

  1. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - September 22, 2020, 9:52 pm

    बहुत खूब

  2. Satish Pandey - September 22, 2020, 9:54 pm

    अँखिया मे समा के दिल मे काहे उतर गइलू |
    कइसे करी हम प्यार हमरो कुछउ ना सहुर बा |
    वाह, सुन्दर अभिव्यक्ति

  3. suman kumari - September 22, 2020, 11:29 pm

    सुन्दर

  4. Geeta kumari - September 23, 2020, 7:48 am

    सुन्दर पंक्तियां

  5. प्रतिमा चौधरी - September 23, 2020, 9:26 am

    बहुत सुंदर

Leave a Reply