भोजपुरी कविता

भोजपुरी गीत- काहे भुला गइलू |

भोजपुरी गीत- काहे भुला गइलू | दिलवा लगाके काहे भुला गइलू | भईल केवन कसूर काहे कोहा गइलू | तोड़ दिहलु दिलवा काँच के टुकड़ा जईसन | लगे सुरतिया टोहार चाँद के मुखड़ा वईसन | छोड़ी हमके काहे रुला दिहलु | दिलवा लगाके काहे भुला गइलू | पवन झंकोरा उड़े केसिया बड़ा निक लागे | चमचम चमके लाल बिंदिया बड़ा निक लागे | कोमल दिलवा ठोकर लगा गइलू | दिलवा लगाके काहे भुला गइलू | आवा तोहे दिलवा के रानी हम बनाइब | प्रेमवा के गि... »

भोजपुरी लोकगीत (पूर्वी ) – सालेला ये राम |

भोजपुरी लोकगीत (पूर्वी ) – सालेला ये राम | अब ना सहब ये मोदी जी , देश बिरोधी घतिया ,दुशमन के बोलीया , लागेला ये राम ,दुशमन के बोलिया | अस मन करे उनके देशवा भगवती , सविधनवा के बतिया याद आवेला ये राम | लागेला ये राम ,दुशमन के बोलिया | होते यदि दुश्मन बहरिया , उनके गोलिया चलवती ,देशवा के लोगवा सालेला ये राम दुशमन के बोलिया | लागेला ये राम ,दुशमन के बोलिया | जाये के पड़ी एक दिन सिमवा के ओरिया। मनवा जहि... »

जड़वा में रतिया

भोजपुरी गीत- जड़वा मे रतिया | कटले कटात नईखे जड़वा मे रतिया | गरिबिया मे जड़वा के अइली बिपत्तिया | सईया सांगवा रहते त रजईया लीवते | सांगवा लइकन अपने कोरवा सुतवते | साले अहमे अपने सइया के सुरतिया | कटले कटात नईखे जड़वा मे रतिया | सर सर पवनवा बदनवा कपावेला | जड़वा मे रतिया हमके नींदियों ना आवेला | केकरा कही हम आपन दिलवा के बतिया | कटले कटात नईखे जड़वा मे रतिया | टुटल मड़ईया हमरो चरपइयो बाड़ी टुटल | केवन सौत... »

माया में लोभाई

भोजपुरी निर्गुण – माया मे लोभाई | नईहर के छोड़ी आइलू ससुरा के घर मे | माया लोभाई भुलइलू आपन सजन ये राम | झूठ साँच बोली पपवा बसवलु अपना मन मे | सोन पिंजरवा छोड़ी सुगना उड़ी जईहे गगन ये राम | माया लोभाई भुलइलू आपन सजन ये राम | पियावा के छोड़ी नेहिया लगवलु देवर ये राम | जनिहे जे भेदवा सजना निकली न मूहवा बचन ये राम | कईलु ना दान धरमवा जिनगी फसवलु भवर ये राम | माया लोभाई भुलइलू आपन सजन ये राम | जाई ससुरवा ... »

पुर्वी लोक गीत चले ठंडी बयरिया ये सजनी

भोजपुरी पूर्वी लोकगीत – चले ठंडी बयरिया ये सजनी | मुखड़ा – चले ठंडी बयरिया ये सजनी , कांपेला बंदनवा मोर | जल्दी से भरीला अंकवरिया लागेला जड़वा बड़ी ज़ोर | चले ठंडी बयरिया ये सजनी , कांपेला बंदनवा मोर | अंतरा 1 – सुना मोर अँखियाँ के पुतरी , भईले प्यार तोहसे मोर | बिना तोहरे तरसे नजरिया , उठेला कर्जवा मे हिलोर | चले ठंडी बयरिया ये सजनी , कांपेला बंदनवा मोर | अंतरा 2 -पतरी कमरिया अँखिया बाड़ी ... »

जान तोहरी याद में

भोजपुरी गीत- जान तोहरी याद मे | जान तोहरी याद मे हमरो रहल दुश्वार बा | तोहरे बिना गोरी हमरो जियल बेकार बा | नैना लड़ाई हमसे चैना छिन लिहलु | हमके रोवाई हमरो रैना छिन लिहलु | गोरी तोहरे याद मे भुलली दिन अतवार बा | जान तोहरी याद मे हमरो रहल दुश्वार बा | दिल के मंदिरवा तोहे देवी बनवली | सपना मे रानी महलिया रची बनवली | दिलवा जनी तोड़ा तोहार नैना खतावार बा | जान तोहरी याद मे हमरो रहल दुश्वार बा | गाँव के... »

दुश्मन भाई में

भोजपूरी लोकगीत (धोबी गीत )- दुशमन भाई के हमरे देशवा के लागल केवना के नजर | लोगवा दुशमन भईले भाई मे | दंगा फइलल सगरो गाँव शहर | रचले साजिश गिरावे देशवा खाई मे | सबसे महान हऊवे हमरो भारत देशवा | दुनिया कप्तान हउवे हमरो भारत देशवा | काहे भटकल लोगवा आपन डहर | लोगवा दुशमन भईले भाई मे | मोदी जी महान बनवले नया रे कानूनवा | हिन्दू सिक्ख जैनी मिली रहे भारत मे ठीकनवा | मुस्लिम रहिहे मिलिके देशवा मे निडर | ल... »

पुर्वी गीत कररवा ये रजऊ

भोजपुरी पूर्वी लोक गीत- कररवा ये रजऊ कई के कररवा ये रजऊ| करेजा काहे काढ़ी हो गईला | पलटी के ना देखला ये करेजउ | धोखा मे हमके डाली हो गईला | बोला बोला ये बेईमनवा | कईला काहे करेजवा कठोर | देखाई के हमके सपनवा | बीच भवरा छोड़ी हो गईला | कई के कररवा ये रजऊ| सुना सुना ये घटिहउ छतिया फाटेला हमार | पकड़ी के हमरो कलईया | छोड़ी हमरा तू छलिया हो भईला | कई के कररवा ये रजऊ| आवा आवा हमरे लगवा आवा | माना ना बतिया ह... »

दिल्ली शहरिया देखा दा

भोजपुरी गीत- दिल्ली शहरिया देखा दा मोर बलमुआ हो हमके दिल्ली शहरिया दिखा दा | दिल्ली मे जाई कुतुबमिनरिया घूमा दा | मोर बलमुआ हो हमके दिल्ली शहरिया दिखा दा | सुनीला के दिल्ली दिलवालन के नगरिया | संसद भवनवा लाल किलवा के नजरिया | कनाट पलेसवाके मीना बजरिया घूमा दा | मोर बलमुआ हो हमके दिल्ली शहरिया दिखा दा | मोर भारत देशवा के दिल्ली हउवे रजधानिया | बड़े बड़े मंतरी औरी बड़ी बड़ी मकनिया | चाँदनी चौकवा के राबड़... »

भोजपुरी गीत-ये देवर जी

भोजपुरी गीत- ये देवर जी अपने भईया से बोली भेजवा दा रज़ाई ये देवर जी | आवेना हमके जड़वा मे ओंघाई ये देवर जी | आई गईले पुस जड़वा के दिनवा | थरथर कंपावे बैरी पुसवा महीनवा | टुटल केवड़िया कईसे लगाई ये देवर जी | आवेना हमके जड़वा मे ओंघाई ये देवर जी | ठंढी बयरिया बैरी देहिया कम्पावेला | रतिया के बेरिया खूब हमके सतावेला | छोट बलकवा बोला कहवा सुताई ये देवरजी | आवेना हमके जड़वा मे ओंघाई ये देवर जी | जबसे ऊ गईले ... »

Page 1 of 3123