महात्मा गाँधी

हर साल मेरी पुस्तक (हिंदी )मे,
महात्मा गाँधी का पाठ जरूर होता है |
बापू का व्यक्तिव याद करता हूँ,
तो “सदा जीवन, उच्च विचार ” याद आता है |

बापू फिर से आकर,
देश बचा लो,
क्रांति बिगुल बजाकर |

तुमने जो जलाया उम्मीद का दिया,
मशाल वो बन गया था |
दुगने लगान के आगे तब,
हर किसान तन गया था |

भुखमरी, महामारी से अंग्रेजो को क्या लेना था,
अकाल से देश शमशान बन गया था |
लाठियों की मार से गोलियों की बौछार से,
देश का कोना -कोना खून से सन गया था |

राष्ट्रपिता तुम हमारे, हो साबरमती के संत,
दांडी मार्च करके, नमक कानून का किया अंत |
एक आवाज पे उठ खड़े हुए देशवासी अनंत,
चरखे की तरहा घुमा दिया सरकार को,
मिला मिटटी में कर दिया उसका अंत |

अब देश का वर्तमान हाल बदला,
100 का नोट 1000मे बदला, 200 का दो हजार मे|
देखो बापू,
भ्रष्टाचारी लूट खा गए,
देश को बेच स्विस बाजार मे |
बापू फिर से आकर,
देश बचा लो,
क्रांति बिगुल बजाकर |

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

16 Comments

  1. राही अंजाना - September 27, 2019, 9:54 pm

    वाह

  2. राम नरेशपुरवाला - September 27, 2019, 10:12 pm

    वाह

  3. देवेश साखरे 'देव' - September 28, 2019, 12:34 am

    Nice

  4. राम नरेशपुरवाला - September 28, 2019, 3:27 am

    वाह

  5. nitu kandera - September 28, 2019, 3:29 am

    True

  6. Kandera - September 28, 2019, 7:22 am

    वाह

  7. Kandera Fitness - September 28, 2019, 7:24 am

    Nice

  8. sandhya Singh - September 28, 2019, 4:33 pm

    Awsome lines

  9. sandhya Singh - September 28, 2019, 4:34 pm

    Nice

  10. Reena Sudhir - October 1, 2019, 5:26 pm

    Very nice

  11. sudesh ronjhwal - October 1, 2019, 10:34 pm

    Good job

Leave a Reply