मुक्तक 16

कभी मेरी निगाहों को जहाँ दिखता था तुझमे मीर ,

मगर अब दौर ऐसा है , खुदी पुरज़ोर हावी है ..

…atr

Related Articles

NASHA

चल अाज सब कुछ भुला के एक मज़ा सा करते हैं, तफ़रीकें मिटा के दिल-ओ-दिमाग़ को एक रज़ा सा करते हैं, दुनिया की सुद्ध में…

प्रधानमंत्री जी नरेंद्र मोदी जी की 69 वे जन्मदिवस पर कविता

आसमान में उगता सूरज दिखता है , स्वर्णिम भारत का सपना, फिर सच्चा होता दिखता है। हुकुमत शाही अफसरों ने त्यागी, कर्म योग की अब…

Responses

New Report

Close