मुक्तक

मेरे ख्यालों में सिर्फ तेरी यादें हैं!

जेहन में गूंजती दर्द की फरियादें हैं!

ख्वाब की दरारों में भटकी है जिन्दगी,

दिल के आईने में टूटती मुरादें हैं!

 

Composed By #महादेव


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Lives in Varanasi, India

Related Posts

मुक्तक

मुक्तक

मुक्तक

मुक्तक

4 Comments

  1. Sridhar - July 14, 2016, 12:55 pm

    Behtareen …

  2. Abhishek kumar - January 1, 2020, 9:46 pm

    Good

Leave a Reply