मुक्तक

पुकारा तो नहीं लेकिन जुबां पर नाम तो आया ।।
सकूँ दिल को नहीं आया मगर आराम तो आया ।।

किसी को मिल गया मौका बुलन्दी पर पहुंचने का !
मेरा नाकाम होना भी किसी के काम तो आया !!

– Nitin sharma

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

मुक्तक

मुक्तक

मुक्तक

मुक्तक

4 Comments

  1. Sridhar - July 18, 2016, 7:08 am

    nice one …

  2. Udit jindal - July 18, 2016, 7:13 am

    sandaar …

  3. राम नरेशपुरवाला - September 10, 2019, 4:22 pm

    Sandaar

Leave a Reply