मैंने जिंदगी को करीब से देखा है!!

मैंने जिंदगी को करीब से देखा है!!

मैंने सपनो को टूटते हुए देखा है

मैंने अपनों को रूठते हुए देखा है

मेरी क्या औकात है तेरे सामने

ऐ जिंदगी

मैंने तो अपने आप को हे अपने आप से टूटते हुए देखा है

– मनीष


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

amature writer,thinker,listener,speaker.

3 Comments

  1. Sridhar - July 19, 2016, 6:54 pm

    nice

Leave a Reply