मैं तेरे साथ हुँ

मुश्किल हैं ,
थोडी राह कठिन हैं ,
पर कोई नहीं,
मैं तेरे साथ हुँ ।

खुद पर भरोसा रख तू ,
कुछ न सही ,
पर कुछ सीखा हैं ।
यहीं बस यकीन रख तू ,
मैं तेरे साथ हुँ ।

आज जो हुआ ,
वो कल न होगा ,
कल जो होगा ,
वो आज से बेहतर होगा ।
यकीन खुद पर रखना होगा ,
इसीलिए मैं तेरे साथ हुँ ।

कल जहाँ मैं थी ,
आज वहाँ तू है,
मेरे संग कोई न था ,
अकेली मैं ही थी ,
पर इस बार मैं तेरे साथ हुँ ।।

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

1 Comment

Leave a Reply