मैं प्यार दूंगा .

भुला सकोगे न तुम कभी भी ,

की  तुमको इतना मैं प्यार दूंगा .

जो होगा चुलमन वो  होंगी  आँखे ,

उसी से तुमको निहार लूंगा .

मगर रहे याद तुम्हे सदा ये,

 उसी में नज़रें उतार लूंगा .

तू मेरा साकी मैं रिन्द तेरा, 

ये मयकदा ही तेरा बसेरा ,

पिला कभी तो मेरे हमनफ़स ,

तुम्हारे दर पे खड़ा हु बेबश ,

नज़र न फेरो , पिला के जाओ,

कसम है दिल में उतार लूंगा ..

भुला सकोगे न तुम कभी भी,

की तुमको इतना मैं प्यार दूंगा..

…atr

Related Articles

नज़र ..

प्रेम  होता  दिलों  से  है फंसती  नज़र , एक तुम्हारी नज़र , एक हमारी नज़र, जब तुम आई नज़र , जब मैं आया नज़र, फिर…

Responses

New Report

Close