मैं लिखता हूँ मोहब्त

मैं लिखता हूँ मोहब्त को …

मोहब्त की कलम से….

मैं भरता हूँ अपने ज़ख्मो को ..

उसकी यादों की मरहम से…

कुछ ही महफूज़ बची हैं , सांसे मेरी ….

मैं ज़ी रहा हूँ आज …

तो बस उसकी दुआओं के रहम से…

 

पंकजोम प्रेम

Related Articles

आज़ाद हिंद

सम्पूर्ण ब्रहमण्ड भीतर विराजत  ! अनेक खंड , चंद्रमा तरेगन  !! सूर्य व अनेक उपागम् , ! किंतु मुख्य नॅव खण्डो  !!   मे पृथ्वी…

Responses

New Report

Close