रात का बटोही

रात का बटोही भटकता फिरे,
और नींद समुद्री लहरों-सी,
किनारे को छुकर वापिस चली जाएं।

Related Articles

Responses

New Report

Close