लगा है इन्सान खुद को बनाने में

बनाया है खुदा ने इन्सान को
दुनिया बनाने के लिए
मगर देखिए क्या हो रहा है दुनिया में
लगा है इन्सान खुद को बनाने में!

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

........................................

4 Comments

  1. Tej Pratap Narayan - April 5, 2016, 2:00 pm

    YAHI TO SAMSYA HAI,YADI INSAN DUNIYA KI SOCHE TO SAAREE PROBLEM KHATM.

  2. महेश गुप्ता जौनपुरी - September 9, 2019, 7:14 pm

    वाह बहुत सुंदर रचना

Leave a Reply