शांति ओढ़ लेना

शांति ओढ़ लेना
प्रतिरोध छोड़ देना
ज़रूरी नहीं कायरता ही हो
हो सकता है
आने वाले संघर्ष की तैयारी हो

बात बात में ताने देना
देखने पर आँखे मटकाना
बोलते वक़्त मुह बिचकाना
ज़रूरी नहीं कि यह नफरत का प्रदर्शन हो
हो सकता है कि यह मानसिक बीमारी हो

चीखों का तड़पते रहना
जवानी का मचलते रहना
शमा का जलने से पहले बुझ जाना
ज़रूरी नहीं कि कमज़ोरी हो
हो सकता है हवा का ज़ोर भारी हो

ऑफिस में काम न कर पाना
फाइलों का काम तमाम करना
लाल फीते की जकड़न से
साँसों का घुटते रहना
ज़रूरी नहीं कि हराम खोरी हो
हो सकता है
ये नौकरी सरकारी हो ।

तेज

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Lives in New Delhi, India

1 Comment

Leave a Reply