शाम ढलती रही…

शाम ढ़लती गयी शम्अ जलती रही..

और तबीयत हमारी  मचलती रही  ..

 

मेरी हालत की उनको ख़बर तक न थी

उम्र आहिस्त करवट बदलती रही

 

उनसे तर्के ताअल्लुक़ को अरसा  हुआ

गोश-ए- दिल मॆं इक   याद पलती  रही

 

दर्द  गहरे समंदर के सीने मॆं  थी

मौज अफ़सोस से हाँथ मलती रही

 

जैसे  कश्ती मचलती हो गर्दाब मॆं

जिंदगी  यूँ हि आरिफ कि चलती रही

 

आरिफ जाफरी..

 

गर्दाब-  भँवर

गोश-ए-दिल- दिल के जगह

 

Related Articles

प्यार अंधा होता है (Love Is Blind) सत्य पर आधारित Full Story

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ Anu Mehta’s Dairy About me परिचय (Introduction) नमस्‍कार दोस्‍तो, मेरा नाम अनु मेहता है। मैं…

Responses

New Report

Close